गौर जयंती

डा सर हरिसिंह गौर समाधी
  • मनाई जाती है: November
  • औचित्य:

    45 सालों से जारी है शोभायात्रा : वर्ष 1969 में सर हरीसिंह गौर की जन्म शती मनाने के लिए विश्वविद्यालय, विद्यार्थियों एवं नागरिकों की समितियां बनीं। 26 नवंबर 1970 को गौर प्रतिमा के निकट सागर विवि परिवार के साथ ही बड़ी संख्या में नगरवासी एकत्र हुए। गौर मूर्ति तीन बत्ती से विवि की समाधि तक अभूतपूर्व जुलूस निकला। ऐसा जुलूस सागर के इतिहास में अनोखा है। यह परंपरा अब भी जारी है।